अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

एनबीएफसी - फैक्टर

प्र.1. फैक्टरिंग क्या है?

उ : फैक्टरिंग अधिनियम, 2011 'फैक्टरिंग बिजनेस' को इसप्रकार परिभाषित करता है, "ऐसी प्राप्तियों या वित्तपोषण के असाइनमेंट को स्वीकार करके असाइनर के प्राप्तियों के अधिग्रहण का व्यवसाय, चाहे ऋण या अग्रिम करने के माध्यम से या किसी भी प्राप्य पर प्रतिभूति ब्याज के बदले किसी अन्य तरीके से किया गया हो"

हालांकि, बैंकों द्वारा व्यवसाय के सामान्य क्रम में प्राप्य की प्रतिभूति और कमीशन एजेंट के रूप में या अन्यथा कृषि उत्पाद या किसी भी प्रकार के सामान की बिक्री के लिए की गई किसी भी गतिविधि और संबंधित गतिविधियों के लिए प्रदान की जाने वाली क्रेडिट सुविधाएं स्पष्ट रूप से फैक्टरिंग व्यवसाय की परिभाषा से बाहर हैं। फैक्टरिंग अधिनियम ने भारत में फैक्टरिंग के लिए बुनियादी कानूनी ढांचा तैयार किया है।

प्र.2. एनबीएफसी-फैक्टर क्या है?

उ : एनबीएफसी- फैक्टर का अर्थ एक गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी जो प्रमुख व्यावसायिक मानदंडों को पूरा करती है अर्थात जिसकी फैक्टरिंग व्यवसाय में वित्तीय आस्ति कुल आस्ति का कम से कम 75 प्रतिशत है और फैक्टरिंग व्यवसाय से प्राप्त आय उसकी सकल आय के 75 प्रतिशत से कम नहीं है और 5 करोड़ रुपये की शुद्ध स्वामित्व वाली निधि और फैक्टरिंग विनियमन अधिनियम, 2011 की धारा 3 के तहत आरबीआई द्वारा पंजीकरण का प्रमाण पत्र प्रदान किया गया है।

प्र.3. एनबीएफसी-फैक्टर के लिए प्रवेश बिंदु मानदंड क्या हैं?

उ : कंपनी अधिनियम 1956 की धारा 3 के तहत पंजीकृत प्रत्येक कंपनी जो एनबीएफसी-फैक्टर के रूप में पंजीकरण की मांग कर रही है, उसके पास न्यूनतम निवल स्वाधिकृत निधि (एनओएफ) रु 5 करोड़ होनी चाहिए। मौजूदा कंपनियां जो एनबीएफसी-फैक्टर के रूप में पंजीकरण चाहती हैं, लेकिन एनओएफ मानदंड रुपये 5 करोड़ को पूरा नहीं करती हैं, आवश्यकता का अनुपालन करने के लिए अधिक समय मांगते हुए बैंक से संपर्क कर सकते हैं।

प्र.4. आरबीआई के साथ एनबीएफसी के रूप में पंजीकृत मौजूदा कंपनियों और फैक्टरिंग व्यवसाय का संचालन करने वाली मौजूदा कंपनियों जो कुल आस्ति/ आय का 75 प्रतिशत से कम गठित करती है उनका क्या होगा?

उ : ऐसी कंपनी को भारतीय रिजर्व बैंक को, एक फैक्टर बनने या व्यवसाय को पूरी तरह से खोलने के अपने इरादे का एक पत्र और इस आशय का एक रोड मैप प्रस्तुत करना होगा। वित्तीय आस्तियों और आय के दोहरे मानदंडों का अनुपालन करने के बाद ही कंपनी को एनबीएफसी-फैक्टर के रूप में सीओआर प्रदान किया जाएगा। यदि कंपनी बैंक द्वारा विनिर्दिष्ट अवधि के भीतर अनुपालन नहीं करती है, तो उसे फैक्टरिंग व्यवसाय को खोलना होगा।

प्र.5. क्या फैक्टरिंग व्यवसाय करने के लिए सभी संस्थाओं को आरबीआई के साथ पंजीकृत होना अनिवार्य है?

उ : हाँ। एक इकाई जो बैंक के साथ पंजीकृत नहीं है, वह फैक्टरिंग का व्यवसाय नहीं कर सकती है, जब तक कि वह अधिनियम की धारा 5 में उल्लिखित एक इकाई नहीं है, अर्थात संसद या राज्य विधानमंडल के अधिनियम के तहत स्थापित कोई बैंक या कोई निगम, या कंपनी अधिनियम, 1956 की धारा 617 के तहत परिभाषित एक सरकारी कंपनी।

प्र.6. यदि कोई कंपनी फैक्टरिंग के लिए प्रमुख व्यावसायिक मानदंडों को पूरा नहीं करती है और बैंक के साथ फैक्टर के रूप में खुद को पंजीकृत कराने का कोई इरादा नहीं है, तो क्या वह अपनी समूह संस्थाओं के साथ फैक्टरिंग गतिविधियों को जारी रख सकती है।

उ : नहीं। फैक्टरिंग अधिनियम 2011 की धारा 3 के अनुसार, कोई भी फैक्टर फैक्टरिंग व्यवसाय बिना ए) रिजर्व बैंक से एक सीओआर प्राप्त, बी) प्रमुख व्यवसाय मानदंड को पूरा किए बिना, शुरू नहीं कर सकता है या चला नहीं सकता है।

प्र.7. क्या एनबीएफसी-कारक आयात और निर्यात फैक्टरिंग कर सकते हैं?

उ : हां, हालांकि, ऐसे एनबीएफसी-फैक्टर्स को फेमा 1999 के तहत बैंक के विदेशी मुद्रा विभाग से आवश्यक प्राधिकरण प्राप्त करने और इस संबंध में सभी फेमा नियमों का पालन करने की आवश्यकता होगी।

प्र.8. क्या एनबीएफसी-फैक्टर्स के लिए प्रत्येक फैक्टरिंग लेनदेन को केंद्रीय रजिस्ट्री में पंजीकृत करना आवश्यक है?

उ : फैक्टरिंग अधिनियम, 2011 की धारा 19 के तहत प्रत्येक फैक्टर इस तरह के असाइनमेंट की तारीख से या ऐसी रजिस्ट्री की स्थापना की तारीख से तीस दिनों की अवधि के भीतर, जैसा भी मामला हो, वित्तीय आस्तियों का प्रतिभूतिकरण और पुनर्रचना एवं प्रतिभूति हित का प्रवर्तन अधिनियम, 2002 (2002 का 54) की धारा 20 के तहत स्थापित होने वाली केंद्रीय रजिस्ट्री के साथ अपने पक्ष में प्राप्तियों के असाइनमेंट के प्रत्येक लेनदेन का विवरण दर्ज करने के लिए बाध्य है।

प्र.9. क्या एनबीएफसी-कारकों को विवेकपूर्ण विनियमों के एक पृथक सेट का पालन करना होगा?

उ : नहीं, गैर-बैंकिंग वित्तीय (जमाराशि स्वीकार नहीं करने या धारण करने वाली) कंपनी विवेकपूर्ण मानदंड (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2007 या गैर-बैंकिंग वित्तीय (जमाराशि स्वीकार करने वाली या धारण करने वाली) कंपनी विवेकपूर्ण मानदंड (रिज़र्व बैंक) निदेश, 2007 के प्रावधान, जैसा कि मामला हो सकता है और जैसा ऋण कंपनी पर लागू होता है, वह एनबीएफसी-फैक्टर पर लागू होगा।

प्र.10. क्या एनबीएफसी-फैक्टर को विवरणी का एक अलग सेट जमा करना होता है?

उ : रिजर्व बैंक को विवरणी जमा करना पंजीकृत एनबीएफसी के मामले में वर्तमान में विनिर्दिष्ट के आधार पर होगा।


2023
2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष