बैंकिंग प्रणाली का विनियामक

बैंक राष्‍ट्रीय वित्‍तीय प्रणाली की नींव होते हैं। बैंकिंग प्रणाली की सुरक्षा एवं सुदृढता को सुनिश्चित करने और वित्‍तीय स्थिरता को बनाए रखने तथा इस प्रणाली के प्रति जनता में विश्‍वास जगाने में केंद्रीय बैंक महत्‍वपूर्ण भूमिका अदा करता है।

भाषण


जुलाई 22, 2022
भविष्य की बैंकिंग - शक्तिकान्त दास 259.00 kb
जून 20, 2022
भविष्योन्मुखी बैंकिंग प्रणाली का निर्माण - एम राजेश्वर राव 397.00 kb
जून 17, 2022
वित्तीय क्षेत्र में व्यवधान और अवसर - शक्तिकांत दास 271.00 kb
मार्च 11, 2022
टेपर 2022: झंझावात में विमान का उतरना - माइकल देबब्रत पात्र 317.00 kb
जनवरी 28, 2022
आरबीआई की महामारी पर कार्रवाई : विस्मृति से बाहर आना – माइकल देबब्रत पात्र 296.00 kb
दिसंबर 15, 2021
स्वामित्व और सुशासन - डिजिटल नवाचारों के लिए भवन का निर्माण - श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा 15 दिसंबर 2021 को मुंबई में टकसाल वार्षिक सम्मेलन में प्रस्तुत भाषण 259.00 kb
नवंबर 16, 2021
आर्थिक सुधार की रूपरेखा - श्री शक्तिकांत दास, गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक का उद्घाटन भाषण - 16 नवंबर 2021 को मुंबई में 8वें एसबीआई बैंकिंग और अर्थशास्त्र कान्क्लेव में दिया गया 231.00 kb
नवंबर 02, 2021
वित्तीय संस्थानों का सुशासन और विवेकपूर्ण पर्यवेक्षण: हाल की पहल (श्री एम के जैन, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा संबोधन - 2 नवंबर 2021 - बिजनेस स्टैंडर्ड बीएफएसआई शिखर सम्मेलन में) 210.00 kb
सितंबर 20, 2021
सुरक्षित रखने पर ध्यान दें (Heed to Heal) - जलवायु परिवर्तन उभरता वित्तीय जोखिम है (16 सितंबर 2021, गुरुवार को हरित और सतत वित्त पर CAFRAL आभासी सम्मेलन में श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर, भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा दिया गया मुख्य भाषण) 332.00 kb
सितंबर 13, 2021
खाता संग्रहक के लिए नियामक ढांचा - आईस्पिरिट द्वारा 2 सितंबर 2021 को आयोजित आभासी कार्यक्रम के दौरान श्री एम. राजेश्वर राव, उप गवर्नर की टिप्पणियाँ 257.00 kb
2023
2022
2021
2020
2019
2018
2017
2016
2015
2014
2013
2012
पुरालेख
Server 214
शीर्ष